Sunday, July 22, 2018
Home > Art and Culture > अरे बावरे

अरे बावरे

भौर सुहानी
कहे कहानी
सुखी रहे
हर इंसानी
सूरज सबका
चंदा सबका
बाँट न सकते
हिस्सा नभ का
छोड़ जायेगा
तोड़ जायेगा
बंधन सारे
अरे बावरे…


जो खेता है
बिन पानी के
नाव हमारी
कभी विचारी
खोजा उसमें
जिसमें लय सब
समझेगा कब
तेरा जीवन
कृपा है उसकी
हर पत्ता हिलता
कृपा से जिसकी
आस पास है
वो ही खास है
अनुभूति कर
क्यूँ निराश है….


जड़ चेतन में
तन में मन में
हर कणकण में
विद्यमान है
सुबह में वो
और शाम में
अल्ला में वो
और राम में
हर हलचल में
हर पलपल में
आज में भी
रहेगा कल में
जो कारण है
बनने का भी
मिटने का भी
जो कारण है


बनना मिटना
उसकी इच्छा
कारण जो भी
आये उसको
समझ परीक्षा
जितना जीवन
जीले उसको
जाना एक दिन
तय है सबका
सो के जागो
अरे अभागो…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *