Friday, October 19, 2018
Home > Business > मिठाई के शौकीनों के दिल पर इस दीवाली पर भी छाया रहा गंगापुर का खीरमोहन

मिठाई के शौकीनों के दिल पर इस दीवाली पर भी छाया रहा गंगापुर का खीरमोहन

गंगापुर सिटी। यूं तो आपको एक से बढ़कर एक मिठाई बाजार में मिल जाएगी लेकिन गंगापुर सिटी के खीरमोहन का नाम सुनते ही सब के मुंह में पानी आ जाता है। ऐसा शानदार स्वाद देश-विदेश में और कहीं नहीं मिलता है। गंगापुर की बनी इस मिठाई की हर जगह जबरदस्त मांग है, त्यौहार या विशेष अवसर पर इसके उपयोग एवं बिक्री में एकाएक बढोतरी हो जाती है इसलिए उपभोक्ताओं को अनेक बार इसकी खरीद के लिए भारी मशक्कत करनी पड़ती है। गंगापुर से बाहर जाने वाला अपने रिश्तेदारों के लिए अवश्य ही खीरमोहन लेकर जाता है इसी प्रकार बाहर से गंगापुर आने वाला भी यहां से इस मिठाई को जरूर खरीद कर ले जाता है। इस दिवाली पर लोगों का उत्साह इस मिठाई के लिए इतना चरम पर था कि खीरमोहन दीपावली की सुबह ही अनेक दुकानों पर समाप्त हो गए और खरीद के लिए दुकानों पर लोगों की लंबी-लंबी कतारें लग गई।

खीरमोहन का इतिहास

गंगापुर सिटी में सबसे पहले खीरमोहन बनाने का श्रेय चौपड़ बाजार स्थित हाबूलाल हलवाई को जाता है जिन्होंने लगभग सन 1950 में खीरमोहन मिठाई बनाई जो की शुरुआत में ज्यादा लोकप्रिय नहीं हुई लेकिन धीरे-धीरे इसका स्वाद लोगों के सर पर चढ़ कर बोलने लगा। शुरूआत के कई सालों तक हाबु हलवाई ने खीरमोहन बेचकर मीठे के शौकीन लोगों के दिलों पर लम्बे समय तक एकछत्र राज किया। बाद में इस मिठाई की बढ़ती प्रसिद्धि को देखकर धीरे-धीरे अन्य हलवाईयों ने भी खीरमोहन तैयार करना चालू कर दिया। कुछ सालों में गंगापुर सिटी के बने खीरमोहन पूरे प्रदेश में लोकप्रिय हो गए। आज हालात यह है कि जब भी कोई परिचित रिश्तेदार गंगापुर सिटी आता है तो वो विशेष रूप से यहां से खीरमोहन अवश्य लेकर जाता है।

इस मिठाई के शौकिनों की फेहरिस्त

खीरमोहन के स्वाद की दीवानगी दूर-दूर तक फैली हुई है। इस स्वादिष्ट मिठाई के दीवाने पूरे राज्य ही नहीं वरन देश की राजधानी एवं विदेशो तक में है। पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी, पूर्व उपराष्ट्रपति भैरोंसिंह शेखावत एवं अन्य कई बडे नेता एवं अफसर इस मिठाई के शौकीनो की लिस्ट में है। और इस लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जाता है कि आज भी कोई नेता अपने बडे पदाधिकारियों और अफसर अपने उच्चाधिकारियों से मिलने जाते है तो सौगात में गंगापुर का खीरमोहन ले जाना नहीं भूलते है।

खीरमोहन बनाने की विधि 

खीरमोहन बनाने के लिए सबसे पहले दूध को कड़ाई में खूब गरम किया जाता है इसके बाद इस दूध को टाटरी डालकर फाड़ा जाता है। फाड़े गए दूध को एक सूती कपडे में बांधकर लटका दिया जाता है और इस प्रकार छैना तैयार हो जाता है। इसके बाद इस तैयार छैना में थोडी मात्रा में सूजी एवं चीनी डालकर अच्छी प्रकार मिक्स करते है स्थानीय हलवाई इसे मिक्स करने के लिए किसी जाली या झज्जर में से इसे छानते है। इस तैयार मिश्रण की गोलियां बनाकर इन्हें उबलती चाशनी में डालकर पकाया जाता है और इस प्रकार गंगापुर का स्वादिष्ट खीरमोहन तैयार किया जाता है।

अपनी राय अवश्य देवें

आपको खीर मोहन कैसा लगता है क्या आप भी खीरमोहन के दीवाने है ?  अपनी राय नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर दें।

One thought on “मिठाई के शौकीनों के दिल पर इस दीवाली पर भी छाया रहा गंगापुर का खीरमोहन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *